Ambala जेल से मिट्टी को ग्वालियर लेकर आई Hindu Mahasabha, Godse अध्ययन माला कार्यक्रम का शुभारंभ : News & Features Network

ग्वालियर  Hindu Mahasabha ने Godse अध्ययन माला कार्यक्रम का शुभारंभ किया। इस दौरान हिंदू महासभा के राष्ट्रीय  उपाध्यक्ष जयवीर भारद्वाज ने कहा कि गोडसे ने महात्मा गांधी की हत्या करके लाखों हिन्दूओं का बदला लिया था। भारद्वाज ने कहा- “मोहम्मद अली जिन्ना और नेहरू जी के प्रधानमंत्री बनने के जिद के कारण गांधी जी ने देश का विभाजन किया”। इसी का प्रतिकार करने के लिए, नाथूराम गोडसे को अंबाला की जेल में फांसी दी गई।

उन्होंने आगे कहा- “अंबाला की जेल का निरीक्षण करने के बाद मैंने वहां से बलिदानी की मिट्टी को लेकर यहां आया हूं। हमारा इसके पीछे सीधे-सीधे कहना है… जो गोडसे बयान अध्यन माला का शुभारंभ किया है, उसके पीछे भी एक ही कारण है कि हम जन-जन तक ये बता देना चाहते हैं कि गोडसे जी ने अंतिम बयान में कहा था कि उन्होंने गांधीजी का अंत इसलिए किया, क्योंकि विभाजन के समय के दृश्य के वो सहन नहीं सके और गांधी का अंत कर दिया”।

 जयवीर भारद्वाज ने कहा कि गोडसे की यही राष्ट्रभक्ति वो जन-जन तक पहुंचाना चाहते हैं। क्योंकि देश की आजादी में सात लाख बत्तीस हजार लोगों ने कुर्बानियां दी हैं। तब देश को आजादी मिली।

Hindu Mahasabha ग्वालियर में अपने गोडसे प्रेम के कारण चर्चाओं में बनी रही है। कभी गोडसे की मूर्ति को लेकर तो कभी उनके ऊपर लाइब्रेरी बनाने को लेकर। हिन्दू महासभा के इन कार्यों को लेकर कांग्रेस हमेशा से ही राज्य सरकार पर हमलावर रही है।

कांग्रेस, राज्य सरकार और भाजपा पर ऐसे कृत्यों को बढ़ाने का आरोप भी लगाती रही है। हालांकि जैसे ही मामले सामने आते हैं, प्रशासन उसपर कार्रवाई भी करती दिखी है। अब एक बार फिर से राज्य की राजनीति हिन्दू महासभा के इस कदम से गरमा सकती है।

नाथूराम Godse का महिमामंडन के कार्यक्रम को आगे बढ़ाते हुए Hindu Mahasabha अब उस जेल की मिट्टी लेकर ग्वालियर पहुंची है, जहां उसे बंद रखा गया गया था। इसके साथ ही महासभा गोडसे के आखिरी बयान को प्रसार-प्रसार करने की तैयारी कर रही है।

Source link

Leave a Comment