UP Elections 2022: इसलिए जरूरी है प्रियंका के लिए यूपी चुनाव लड़ना, लेकिन मुश्किलें भी कम नहीं

आशीष तिवारी, नई दिल्ली।
Published by: Amit Mandal
Updated Fri, 12 Nov 2021 09:01 PM IST

सार

राजनीतिक विशेषज्ञों के मुताबिक महिलाओं को 40 फीसदी टिकट देने की घोषणा करने के बाद प्रियंका गांधी का चुनाव लड़ना अब उत्तर प्रदेश में जरूरी हो गया है। ऐसा न करने पर संदेश बहुत सकारात्मक नहीं होगा।
 

कांग्रेस की यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी
– फोटो : amar ujala

ख़बर सुनें

प्रियंका गांधी उत्तर प्रदेश में चुनाव लड़ेगी या नहीं, इसे लेकर न सिर्फ कांग्रेस के नेताओं में बल्कि उत्तर प्रदेश के राजनैतिक हलकों में खूब सवाल उठ रहे हैं। दरअसल, राजनीतिक गलियारे में यह सवाल इस बात को लेकर के भी उठ रहे कि प्रियंका गांधी ने जिस तरीके से 40 फ़ीसदी महिलाओं को टिकट देने की बात कही है अगर ऐसे में वह खुद चुनाव नहीं लड़ती हैं तो पार्टी के नफा नुकसान का आकलन भी इसी से होगा। लेकिन पार्टी और प्रियंका गांधी की ओर से अभी इस पर अपने पत्ते नहीं खोले गए हैं। लेकिन सूत्रों का कहना है प्रियंका गांधी उत्तर प्रदेश की किसी एक विधानसभा से चुनाव जरूर लड़ेंगी।

40 फीसदी महिलाओं को टिकट देने का फैसला सराहनीय 
दिल्ली कांग्रेस मुख्यालय में बैठने वाले कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री कहते हैं कि निश्चित तौर पर प्रियंका गांधी का 40 फीसदी महिलाओं को टिकट देने का फैसला सराहनीय है। इससे कांग्रेस पार्टी को महिलाओं की ओर से न सिर्फ जुड़ाव का बल मिलेगा बल्कि वोट प्रतिशत के साथ सीटें भी बढ़ेगी। लेकिन उक्त कांग्रेस के नेता की चिंता इस बात को लेकर है कि प्रियंका गांधी उत्तर प्रदेश में विधानसभा का चुनाव लड़ेगी या नहीं लड़ेंगी। वो कहते हैं कि जब बात महिलाओं की है और हमारी नेता ने महिलाओं की अधिक से अधिक भागीदारी की बात कही है तो उनको खुद इसमें सबसे आगे आना होगा। ऐसे में प्रियंका गांधी को उत्तर प्रदेश की किसी एक विधानसभा सीट से चुनाव लड़ना चाहिए। जिससे यह संदेश भी स्पष्ट तौर पर होगा कि प्रियंका गांधी ने ना सिर्फ महिलाओं को आगे बढ़ाने की बात की है बल्कि वह खुद उनका प्रतिनिधित्व करने के लिए चुनावी मैदान में हैं। 

यह बात सिर्फ दिल्ली में बैठे कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ही नहीं कर रहे हैं बल्कि उत्तर प्रदेश के कांग्रेस नेताओं से लेकर कार्यकर्ताओं के बीच में इसको लेकर सबसे ज्यादा चर्चा भी होती है। उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के वरिष्ठ नेता कहते हैं कि हम लोगों ने तो प्रियंका गांधी को बतौर मुख्यमंत्री का चेहरा प्रस्तुत करने की मांग तक कर डाली है। ऐसे में उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी का हर कार्यकर्ता इस बात की उम्मीद करता है कि प्रियंका गांधी उत्तर प्रदेश में कहीं न कहीं से चुनाव जरूर लड़ेंगी।

पुनिया बोले, प्रियंका के चुनाव लड़ने पर अभी फैसला नहीं
उत्तर प्रदेश में कांग्रेस पार्टी की ओर से चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष पीएल पुनिया कहते हैं कि प्रियंका गांधी चुनाव लड़ेगी या नहीं लड़ेंगी इस पर अभी कोई फैसला नहीं लिया गया है। हालांकि पुनिया ने स्पष्ट तौर पर इशारा किया कि जिस तरीके से कांग्रेस उत्तर प्रदेश में आक्रामक तरीके से आगे बढ़ रही है उससे प्रियंका गांधी उत्तर प्रदेश के किसी विधानसभा से चुनाव लड़ सकती हैं। पुनिया के मुताबिक प्रियंका गांधी ने खुद इस बात का इशारा किया है। हालांकि चुनाव लड़ने को लेकर आधिकारिक तौर पर ना पार्टी की ओर से ना प्रियंका गांधी की ओर से अभी कोई सूचना जारी की गई है। वो कहते हैं इसमें कोई दो राय नहीं है कि अगर प्रियंका गांधी विधानसभा चुनाव लड़ती हैं तो उत्तर प्रदेश में कांग्रेस को बंपर फायदा होगा। पीएल पुनिया के मुताबिक इस बात का फैसला बहुत जल्द हो जाएगा।

हालांकि कांग्रेस के ही एक खेमे में इस बात को लेकर चर्चा है कि प्रियंका गांधी को उत्तर प्रदेश में विधानसभा का चुनाव नहीं लड़ना चाहिए। इसकी वजह बताते हुए कांग्रेस के ही एक वरिष्ठ नेता कहते हैं कि प्रियंका गांधी का बतौर लीडर चेहरा सामने रखना ज्यादा उपयोगी है ना कि वह खुद विधानसभा का चुनाव लड़ कर मैदान में उतरे। इसके पीछे उन नेता का तर्क है कि अगर इतनी मेहनत के बाद भी उत्तर प्रदेश में कोई जादुई आंकड़ा कांग्रेस नहीं छू पाती है तो प्रियंका गांधी के पूरे राजनैतिक कैरियर पर प्रश्नचिन्ह भी लग सकता है। 

प्रियंका गांधी कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव भी हैं ऐसे में उनको सिर्फ उत्तर प्रदेश ही नहीं बल्कि देश के अलग-अलग राज्यों में भी इसी तरीके की जिम्मेदारी निभानी होगी। उत्तर प्रदेश में विधानसभा का चुनाव लड़ना और परिणाम सकारात्मक ना आना देश के दूसरे राज्यों में कुछ अलग ही संदेश देगा। ऐसे में कांग्रेस के नेताओं का कहना है कि प्रियंका गांधी को चुनाव लड़ने की बजाय बतौर अपना चेहरा सामने रखकर चुनाव में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभानी होगी। जिससे परिणाम कुछ भी हूं प्रियंका गांधी के चेहरे और उनकी आक्रामकता का फायदा देश के अलग-अलग राज्यों में कांग्रेस पार्टी को मिल सकता है। 

विस्तार

प्रियंका गांधी उत्तर प्रदेश में चुनाव लड़ेगी या नहीं, इसे लेकर न सिर्फ कांग्रेस के नेताओं में बल्कि उत्तर प्रदेश के राजनैतिक हलकों में खूब सवाल उठ रहे हैं। दरअसल, राजनीतिक गलियारे में यह सवाल इस बात को लेकर के भी उठ रहे कि प्रियंका गांधी ने जिस तरीके से 40 फ़ीसदी महिलाओं को टिकट देने की बात कही है अगर ऐसे में वह खुद चुनाव नहीं लड़ती हैं तो पार्टी के नफा नुकसान का आकलन भी इसी से होगा। लेकिन पार्टी और प्रियंका गांधी की ओर से अभी इस पर अपने पत्ते नहीं खोले गए हैं। लेकिन सूत्रों का कहना है प्रियंका गांधी उत्तर प्रदेश की किसी एक विधानसभा से चुनाव जरूर लड़ेंगी।

40 फीसदी महिलाओं को टिकट देने का फैसला सराहनीय 

दिल्ली कांग्रेस मुख्यालय में बैठने वाले कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री कहते हैं कि निश्चित तौर पर प्रियंका गांधी का 40 फीसदी महिलाओं को टिकट देने का फैसला सराहनीय है। इससे कांग्रेस पार्टी को महिलाओं की ओर से न सिर्फ जुड़ाव का बल मिलेगा बल्कि वोट प्रतिशत के साथ सीटें भी बढ़ेगी। लेकिन उक्त कांग्रेस के नेता की चिंता इस बात को लेकर है कि प्रियंका गांधी उत्तर प्रदेश में विधानसभा का चुनाव लड़ेगी या नहीं लड़ेंगी। वो कहते हैं कि जब बात महिलाओं की है और हमारी नेता ने महिलाओं की अधिक से अधिक भागीदारी की बात कही है तो उनको खुद इसमें सबसे आगे आना होगा। ऐसे में प्रियंका गांधी को उत्तर प्रदेश की किसी एक विधानसभा सीट से चुनाव लड़ना चाहिए। जिससे यह संदेश भी स्पष्ट तौर पर होगा कि प्रियंका गांधी ने ना सिर्फ महिलाओं को आगे बढ़ाने की बात की है बल्कि वह खुद उनका प्रतिनिधित्व करने के लिए चुनावी मैदान में हैं। 

यह बात सिर्फ दिल्ली में बैठे कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ही नहीं कर रहे हैं बल्कि उत्तर प्रदेश के कांग्रेस नेताओं से लेकर कार्यकर्ताओं के बीच में इसको लेकर सबसे ज्यादा चर्चा भी होती है। उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के वरिष्ठ नेता कहते हैं कि हम लोगों ने तो प्रियंका गांधी को बतौर मुख्यमंत्री का चेहरा प्रस्तुत करने की मांग तक कर डाली है। ऐसे में उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी का हर कार्यकर्ता इस बात की उम्मीद करता है कि प्रियंका गांधी उत्तर प्रदेश में कहीं न कहीं से चुनाव जरूर लड़ेंगी।

पुनिया बोले, प्रियंका के चुनाव लड़ने पर अभी फैसला नहीं

उत्तर प्रदेश में कांग्रेस पार्टी की ओर से चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष पीएल पुनिया कहते हैं कि प्रियंका गांधी चुनाव लड़ेगी या नहीं लड़ेंगी इस पर अभी कोई फैसला नहीं लिया गया है। हालांकि पुनिया ने स्पष्ट तौर पर इशारा किया कि जिस तरीके से कांग्रेस उत्तर प्रदेश में आक्रामक तरीके से आगे बढ़ रही है उससे प्रियंका गांधी उत्तर प्रदेश के किसी विधानसभा से चुनाव लड़ सकती हैं। पुनिया के मुताबिक प्रियंका गांधी ने खुद इस बात का इशारा किया है। हालांकि चुनाव लड़ने को लेकर आधिकारिक तौर पर ना पार्टी की ओर से ना प्रियंका गांधी की ओर से अभी कोई सूचना जारी की गई है। वो कहते हैं इसमें कोई दो राय नहीं है कि अगर प्रियंका गांधी विधानसभा चुनाव लड़ती हैं तो उत्तर प्रदेश में कांग्रेस को बंपर फायदा होगा। पीएल पुनिया के मुताबिक इस बात का फैसला बहुत जल्द हो जाएगा।

हालांकि कांग्रेस के ही एक खेमे में इस बात को लेकर चर्चा है कि प्रियंका गांधी को उत्तर प्रदेश में विधानसभा का चुनाव नहीं लड़ना चाहिए। इसकी वजह बताते हुए कांग्रेस के ही एक वरिष्ठ नेता कहते हैं कि प्रियंका गांधी का बतौर लीडर चेहरा सामने रखना ज्यादा उपयोगी है ना कि वह खुद विधानसभा का चुनाव लड़ कर मैदान में उतरे। इसके पीछे उन नेता का तर्क है कि अगर इतनी मेहनत के बाद भी उत्तर प्रदेश में कोई जादुई आंकड़ा कांग्रेस नहीं छू पाती है तो प्रियंका गांधी के पूरे राजनैतिक कैरियर पर प्रश्नचिन्ह भी लग सकता है। 

प्रियंका गांधी कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव भी हैं ऐसे में उनको सिर्फ उत्तर प्रदेश ही नहीं बल्कि देश के अलग-अलग राज्यों में भी इसी तरीके की जिम्मेदारी निभानी होगी। उत्तर प्रदेश में विधानसभा का चुनाव लड़ना और परिणाम सकारात्मक ना आना देश के दूसरे राज्यों में कुछ अलग ही संदेश देगा। ऐसे में कांग्रेस के नेताओं का कहना है कि प्रियंका गांधी को चुनाव लड़ने की बजाय बतौर अपना चेहरा सामने रखकर चुनाव में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभानी होगी। जिससे परिणाम कुछ भी हूं प्रियंका गांधी के चेहरे और उनकी आक्रामकता का फायदा देश के अलग-अलग राज्यों में कांग्रेस पार्टी को मिल सकता है। 

Source link

Leave a Comment